(HTML) Form Tag in Hindi

Rate this post

HTML पेज में यूजर से कोई जानकारी लेने के लिए Form टैग का इस्तेमाल लिया जाता है, <form> टैग में जो जानकारी डाली जाती है, वो सब form सबमिट होने पर सर्वर को भेजी जाती है।

फॉर्म टैग का खास काम इनपुट फील्ड्स के समूह डाटा को एक साथ सर्वर पर भेजना है।


<form> टैग की लाक्षणिकता

जैसे जैसे वक्त बीत रहा है, वैसे वैसे HTML में फॉर्म टैग को इस्तेमाल करने के अलग अलग तरीके देखने को मिल रहे है, तो सबसे पहले हमे <form> टैग को इस्तेमाल करने का मूलभूत तरीका पता होना जरूरी है।

  1. फॉर्म टैग सिर्फ डाटा लेने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
  2. फॉर्म टैग में <input> टैग्स डाटा कलेक्टर की तरह इस्तेमाल होते है।
  3. फॉर्म टैग से डाटा सर्वर को भेजा जाता है।

<input> टैग्स क्या है? और क्यू इस्तेमाल होते है?

फॉर्म में कई सारे प्रकार का डाटा आ सकता है, जैसे की नाम, नंबर, ईमेल आदि, तो इन भिन्न-भिन्न इनपुट को सही से फॉर्म में लेने के लिए इनपुट टैग्स इस्तेमाल होते है।

<input> टैग में “type” नाम के ऐट्रब्यूट में हम इनपुट में किस प्रकार का डाटा आएगा वो निर्धारित करते है,
अगर हमने किसी इनपुट के ऐट्रब्यूट को “type” = “email” दिया हो, तो उस फील्ड में ईमेल के अलावा कोई भी वैल्यू नहीं सबमिट होगी, जिसको फॉर्म validation भी कहते है।


फॉर्म टैग कैसे इस्तेमाल करे?

HTML में फॉर्म टैग का इस्तेमाल करना बहुत ही आसान है, नीचे बताए गए उदाहरण को फॉलो करने आप एक अच्छा फॉर्म बना सकते हो।

उदाहरण:

<form method="post" action="get_data.php">
  <label for="name">नाम:</label>
  <input type="text" id="name" name="name"><br><br>
  <label for="email">ईमेल:</label>
  <input type="email" id="email" name="email"><br><br>

  <input type="submit" value="सबमिट">
</form>

आउट्पुट:






तो अब हम ऊपर दिए गए कोड और उसके आउट्पुट(परिणाम) को समझेंगे।

कोई भी <form> टैग जिसके अंदर एक <input> टैग और सबमिट बटन दिया गया हो उसे हम स्टैन्डर्ड फॉर्म बोल सकते है।

उदाहरण में हमने 2 फॉर्म टैग ऐट्रब्यूट देखे,

  1. method
  2. action

<form> Tag Methods

फॉर्म टैग में method ऐट्रब्यूट से फॉर्म सबमिट होने के बाद डाटा किस तकनीक से सर्वर को ट्रैन्स्फर होगा वो बताता है।

फॉर्म में डाटा ट्रैन्स्फर के लिए 2 तकनीक है, जिनकी हमने नीचे चर्चा की है,

  1. GET Method
  2. POST Method

GET Method: इस मेथड में ट्रैन्स्फर किया जा रहा डाटा, हम वेब ब्राउजर के URL सेक्शन में देख सकते है।
जिन फॉर्म का काम सिर्फ डाटा सर्च करने जैसी चीजों के लिए होता है, उसमे इस method का इस्तेमाल होता है।
महत्वपूर्ण फॉर्म का डाटा जैसे के लॉगिन फॉर्म के ईमेल और पासवर्ड जैसी चीजों के लिए इस method इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

POST Method: इस मेथड में ट्रैन्स्फर हो रहा डाटा हम आसानी से नहीं देख सकते, इस डाटा को देखने के लिए हमें ब्राउजर के नेटवर्क सेक्शन में जाना पड़ता है, जो की डिफ़ॉल्ट छुपा हुवा रहता है।
इस method का इस्तेमाल ज्यादातर उन फॉर्म मे किया जाता है, जिसका डाटा ब्राउजर मे दिखाना सही नहीं रहता, जैसे की लॉगिन डिटेल्स।

अगर हम फॉर्म को कोई भी method नहीं देते तो डिफ़ॉल्ट फॉर्म में GET method होती है।


<form> टैग Action ऐट्रब्यूट

फॉर्म सबमिट होने पर जिस अड्रेस पर डाटा भेजना हो उसका url action ऐट्रब्यूट में दिया जाता है, जिससे फॉर्म सबमिट होने पर डाटा ट्रैन्स्फर हो सके।

सर्वर में कोई भी प्रोग्रामिंग भाषा जैसे की php, node, python आदि का इस्तेमाल करके हम फॉर्म से दिया गया डाटा ले कर उसको अपने database में संग्रह कर सकते है।

इस का उदाहरण हमने ऊपर वाले HTML कोड में देखा है।

अगर हम फॉर्म में इस ऐट्रब्यूट का इस्तेमाल नहीं करते तो, ब्राउजर आपके फॉर्म का डाटा सबमिट होने पर उसी पेज(same page) को सर्वर समझ कर भेज देता है।

Also Read: HTML Semantic Tags in Hindi

हमें आशा है की आपको हमारा ये ब्लॉग जरूर पसंद आया होगा, अगर आपकी कोई सलाह या सुझाव हो तो आप हमें कमेन्ट सेक्शन में बात सकते है, धन्यवाद।


HTML CSS से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

HTML में CSS क्या है?

कैस्केडिंग स्टाइल शीट्स (सीएसएस) एक स्टाइलशीट भाषा है जिसका उपयोग HTML या XML (SVG, MathML या XHTML जैसी XML बोलियों सहित) में लिखे गए दस्तावेज़ की प्रस्तुति का वर्णन करने के लिए किया जाता है।

HTML में CSS क्या है और इसके प्रकार?

चयनकर्ता सीएसएस पहचानकर्ता हैं जो निर्दिष्ट करते हैं कि पूरे वेब पेज पर कौन से HTML घटकों को सजाना है। सीएसएस तीन प्रकार के होते हैं: बाहरी, आंतरिक और इनलाइन । बाहरी सीएसएस कमांड मुख्य HTML पृष्ठ से एक अलग फ़ाइल में लिखे गए हैं। फिर इन्हें HTML फ़ाइल में एक कमांड द्वारा प्रत्येक वेब पेज से जोड़ा जाता है।

CSS क्या है इसका क्या महत्व है?

सीएसएस 3 क्या है ( Css3 kya hai in hindi )

दोस्तों आपको तो पता होगा की Html की मदद से एक पेज का सिर्फ शरीर त्यार किया जाता है उसमे जान डालने का काम css के द्वारा किया जाता है Css ki मदद से एक वेब पेज को Backround color, Imagesize, Font Size और बहुत सी tags को color देकर उसे और भी ज्यादा आकर्षक बनाया जाता है।

सीएसएस का मतलब क्या है?

CSS का फुल फॉर्म “Cascading Style Sheet” होता है. इसे हिंदी में “काश कार्डिंग स्टाइल शीट ” कहते हैं. यह एक वेब डिजाइनिंग लैंग्वेज होता है. इसे Hakon Winum Lie ने 1994 में बनाया था एवं इसे W3C द्वारा 1996 में विकसित किया गया था.

HTML में CSS कहां लगाते हैं?

सीएसएस को हेड टैग में रखा जाना चाहिए। इस तरह DOM तत्वों को उनके दिखने के अनुसार स्टाइल किया जा सकता है। जेएस को क्लोजिंग बॉडी टैग से पहले रखा जाना चाहिए।

3 thoughts on “(HTML) Form Tag in Hindi”

Leave a Comment